scorecardresearch
 

राम मंदिर : अयोध्या के श्रीराम मंदिर से पांच गुना बड़ा रामायण मंदिर (राम मंदिर ) यहां बन रहा, 108 फीट ऊंचे पांच शिखर होंगे इसमें

Turant news : अयोध्या के श्री राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी को होने वाले है।राम मंदिर से पांच गुना बड़े आकार का रामायण मंदिर बिहार के पूर्वी चंपारण में तैयार हो रहा है। ये मंदिर 108 फीट ऊंचे और पांच शिखर होंगे। कवर में तेजी से निर्माण चल रहा है।

Advertisement
X
राम मंदिर
राम मंदिर : अयोध्या के श्रीराम मंदिर से पांच गुना बड़ा रामायण मंदिर (राम मंदिर ) यहां बन रहा, 108 फीट ऊंचे पांच शिखर होंगे इसमें

दुनिया का सबसे बड़ा रामायण मंदिर बिहार के चंपारण में बन रहा है। यह मंदिर अयोध्या में बन रहे श्री राम मंदिर से पांच गुना बड़ा होगा। इसका नाम विराट रामायण मंदिर है। 2025 के आखिरी माह तक यह मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा। इतना ही नहीं इसी विराट रामायण मंदिर मे विश्व के सबसे बड़े शिवलिंग का भी निर्माण हो रहा। मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो चुका है।

Advertisement

मोतिहारी (पूर्वी चंपारण) के कैथवलिया में बनने वाले विराट रामायण मंदिर की शुरुआत वर्ष 2012 में हुई थी। यह पटना के महावीर मंदिर की महत्वाकांक्षी परियोजना है। जो भूमि पूजन की गई थी, उस समय के भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया था, लेकिन जब पॉलिटिकल प्रभाव के कारण मंदिर के कार्य में व्यवधान उत्पन्न होने लगा तो पूर्व आईपीएस अधिकारी और महावीर न्याय समिति के सचिव आचार्य किशोर कुणाल ने राजनीति से दूर रहते हुए भी कार्य को आगे बढ़ाया।

विराट रामायण मंदिर के बारे में अब जानिए यह मंदिर सवा सौ एकड़ जमीन में बन रहा है इस मंदिर का क्षेत्रफल 3.67 लाख वर्ग फुट होगा। सबसे ऊँचे शिखर 270 फीट का होगा। 198 फीट का एक शिखर होगा। जबकि 180 फीट के चार शिखर रहेंगे। 135 फीट का एक शिखर और 108 फीट ऊंचाई के 5 शिखर होंगे। विराट रामायण मंदिर की लंबाई 1080 फीट और चौड़ाई 540 फीट है। जब मंदिर पूरी तरह तैयार हो जाएगा तो अयोध्या से जनकपुर की ओर जाते वक्त उसका दृश्य दिखाई देंगे ।

दुनिया के सबसे बड़े शिवलिंग के बारे में जानिए दुनिया का सबसे बड़ा शिवलिंग 2025 तक बनकर तैयार हो जायेंगे । इनका निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। इस मंदिर की खासियत है कि यह शिवलिंग सहस्त्र शिवलिंग होंगे इसमें हजार शिवलिंग की आकृति होगी। 1500 साल बाद ऐसे सहस्त्र शिवलिंग का निर्माण करवाया जा रहे है। इसके पहले 800 ई. में सहस्त्र शिवलिंग का निर्माण किया गया था। काले ग्रेनाइट से बनने वाले इस शिवलिंग पर तीन मंजिला मंदिर के ऊपर तल से जलाभिषेक होंगे । इस शिवलिंग का वजन 210 टन होगा। जबकि इसकी ऊंचाई 33 फीट और सिलाई 33 भी होगी। श्रद्धालु 33 फीट की ऊंचाई से सीधे महादेव को जल अर्पित कर पाएंगे।

Advertisement