scorecardresearch
 

' कदंब, बगरद, पलाश भगवान कृष्ण के पसंदीदा पेड़ों से सजेगी मथुरा' द्वापरयुग जैसा 'वन' लगाने को मिली मंजूरी

मथुरा में भगवान कृष्ण की जन्मस्थली के लिए योगी सरकार द्वारा चलाई जा रही वन पुनर्जन्म योजना के तहत कृष्ण के पसंदीदा पेड़ों का जंगल तैयार किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद यूपी सरकार की इस योजना के तहत मथुरा को पुराना गौरव दिलाने वाले पेड़ शहर की शान बनेंगे।.

Advertisement
X
कदंब, बगरद, पलाश भगवान कृष्ण के पसंदीदा पेड़ों से सजेगी मथुरा द्वापरयुग जैसा 'वन' लगाने को मिली मंजूरी
कदंब, बगरद, पलाश भगवान कृष्ण के पसंदीदा पेड़ों से सजेगी मथुरा द्वापरयुग जैसा 'वन' लगाने को मिली मंजूरी

मथुरा में भगवान कृष्ण की जन्मस्थली के लिए योगी सरकार द्वारा चलाई जा रही वन पुनर्जन्म योजना के तहत कृष्ण के पसंदीदा पेड़ों का जंगल तैयार किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद यूपी सरकार की इस योजना के तहत मथुरा को पुराना गौरव दिलाने वाले पेड़ शहर की शान बनेंगे।."

कदंब, बगरद, पलाश... भगवान कृष्ण के पसंदीदा पेड़ों से सजेगी मथुरा, द्वापरयुग जैसा 'वन' लगाने को मिली मंजूरी.

मथुराः भगवान कृष्ण की जन्मस्थली मथुरा में अब उनके पसंद के पेड़ों का जंगल तैयार किया जाएगा। योगी सरकार को ऐसा करने के लिए सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी मिल गई है। योगी सरकार की इस योजना के बाद मथुरा को पुराना गौरव दिलाने वाले पेड़ शहर की शान बनेंगे। इन पेड़ों में कदंब,पीलू, तमाल, बरगद ,पाकड़, मोलश्री ,खिरानी ,अर्जुन और पलास शामिल हैं। इसके अलावा शहर में लगे अंग्रेजों के जमाने के कीकड़ के पेड़ काटे जाएंगे।."

Advertisement

जस्टिस संजय किशन कौल की अध्यक्षता वाली बेंच ने मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर अंग्रेजों के लगाए गए कीकड़ जैसै वृक्षों की बजाय कदंब,पीलू, तमाल, बरगद ,पाकड़, मोलश्री, खिरानी, अर्जुन और पलास जैसे पेड़ लगाने की यूपी सरकार की मांग को हरी झंडी दे दी है। अब सुप्रीम कोर्ट की सहमति के बाद यूपी सरकार की व्यापक योजना में भगवान श्रीकृष्ण के जन्म स्थान मे मथुरा के पुराने गौरव का एहसास कराने वाले पेड़ लगाए जाएंगे।.

दरअसल यूपी सरकार ने वन पुनर्जन्म योजना के तहत भगवान श्रीकृष्ण के पसंदीदा उन पौधों को बडे़ पैमाने पर लगाएगी, जिसे यूपी सरकार ने प्राचीन वन क्षेत्र पुनर्जन्म योजना का नाम दिया है। इसके तहत ब्रज भूमि परिक्रमा क्षेत्र मे धार्मिक ग्रंथों में वर्णन किए गए पुरातन प्रजाति के वन लगाकर धार्मिक और सांस्कृतिक धरोहर को सजाना चाहती है। इस योजना पर अमल किए जाने का निर्देश देने की मांग करते हुए यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी।.

Advertisement