> <
 

बिज़नेस आइडिया: ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पहले साल का लक्ष्य: 30,000 महीने पांचवें साल का लक्ष्य: 1 करोड़ टर्नओवर इन्वेस्टमेंट: 2 लाख

स्टार्टअप के लिए इन्वेस्टमेंट मात्र ₹200000 हो तो । यदि आपको ऐसा स्टार्टअप बिजनेस शुरू करने के लिए तैयार है जिसमें पहले 3 साल में कड़ी मेहनत करनी होगा लेकिन उसके बाद आपका बिजनेस एक ब्रांड बन जायेंगे लोग आपकी फ्रेंचाइजी मांगने आएंगे और पांचवें साल में आपका टर्नओवर एक करोड़ से ज्यादा हो जाएगा। सबसे अच्छी बात यह है कि, आज की स्थिति में इस पूरे भारत में बच्चों की फिजिकल हेल्थ पर काफी पैसा खर्च किया जाता है।

Advertisement
X
बिज़नेस आइडिया
स्टार्टअप के लिए इन्वेस्टमेंट मात्र ₹200000 हो तो । यदि आपको ऐसा स्टार्टअप बिजनेस शुरू करने के लिए तैयार है जिसमें पहले 3 साल में कड़ी मेहनत करनी होगा लेकिन उसके बाद आपका बिजनेस एक ब्रांड बन जायेंगे लोग आपकी फ्रेंचाइजी मांगने आएंगे और पांचवें साल में आपका टर्नओवर एक करोड़ से ज्यादा हो जाएगा। सबसे अच्छी बात यह है कि, आज की स्थिति में इस पूरे भारत में बच्चों की फिजिकल हेल्थ पर काफी पैसा खर्च किया जाता है।

पेरेंट्स अपनी तरफ से जो भी बेस्ट पॉसिबल होता है, वह करते हैं। पैरेंट्स चाहते हैं कि उनका बच्चा एक सफल इंसान बने लेकिन सफलता के लिए मेंटल हेल्थ पर ध्यान देना भी जरूरी है। पब्लिक यह जानती है परंतु उनकी सबसे बड़ी प्रॉब्लम यह है कि मेंटल हेल्थ के बारे में बताने वाला कोई है ही नहीं। आप इस प्रॉब्लम को सॉल्व कर सकते हैं। दिल्ली एनसीआर के मनोचिकित्सक डॉक्टर आरके बंसल, मनोवैज्ञानिक डॉक्टर रश्मि, सीबीएसई कॉर्डिनेटर नोएडा और एमिटी स्कूल की प्रिंसिपल रेनू सिंह और इनके जैसे तमाम विशेषज्ञ कहते हैं कि, पैरेंट्स चाहते हैं कि उनके बच्चे का आईक्यू लेवल टेस्ट किया जाए। वह जानना चाहते हैं कि उनके बच्चे का IQ LEVEL कितना है। ताकि वह निर्धारित कर सके कि IQ LEVEL 120 तक पहुंचाने के लिए क्या कुछ करने की जरूरत है।

आपको कुछ मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक से मिलता है। IQ LEVEL TEST करने का एक फुल प्रूफ फार्मूला तैयार करना है, और फिर अपना IQ LAB बनाकर ट्रायल शुरू कर देना है। यदि आप छोटे शहर में तो स्कूल लेवल पर, यदि आप किसी मेट्रो सिटी में है तो सोसाइटी लेवल पर ट्रायल कर सकते हैं। इस दौरान एक मिनिमम फीस लीजिए, ताकि आपके पास ज्यादा से ज्यादा संख्या में बच्चे आ जाएं। इसके कारण आपका फार्मूला बिल्कुल करेक्ट हो जाएगा, और फिर आप अपना ब्रांड लॉन्च कर सकते हैं। भारत में कम निवेश उच्च लाभ स्टार्टअप लघु व्यवसाय विचार यदि आपको ऐसा स्टार्टअप बिजनेस शुरू करने के लिए तैयार है जिसमें पहले 3 साल में कड़ी मेहनत करनी होगी लेकिन उसके बाद आपका बिजनेस एक ब्रांड बन जाएगा। लोग आपकी फ्रेंचाइजी मांगने आएंगे और पांचवें साल में आपका टर्नओवर एक करोड़ से ज्यादा हो जाएगा। सबसे अच्छी बात यह है कि, आज की स्थिति में इस स्टार्टअप के लिए इन्वेस्टमेंट मात्र ₹200000 है।

Advertisement

भारत में व्यापार के अवसर पूरे भारत में बच्चों की फिजिकल हेल्थ पर काफी पैसा खर्च किया जाता है। पेरेंट्स अपनी तरफ से जो भी बेस्ट पॉसिबल होता है, वह करते हैं। पैरेंट्स चाहते हैं कि उनका बच्चा एक सफल इंसान बने लेकिन सफलता के लिए मेंटल हेल्थ पर ध्यान देना भी जरूरी है। पब्लिक यह जानती है परंतु उनकी सबसे बड़ी प्रॉब्लम यह है कि मेंटल हेल्थ के बारे में बताने वाला कोई है ही नहीं। आप इस प्रॉब्लम को सॉल्व कर सकते हैं। दिल्ली एनसीआर के मनोचिकित्सक डॉक्टर आरके बंसल, मनोवैज्ञानिक डॉक्टर रश्मि, सीबीएसई कॉर्डिनेटर नोएडा और एमिटी स्कूल की प्रिंसिपल रेनू सिंह और इनके जैसे तमाम विशेषज्ञ कहते हैं कि, पैरेंट्स चाहते हैं कि उनके बच्चे का आईक्यू लेवल टेस्ट किया जाए। वह जानना चाहते हैं कि उनके बच्चे का IQ LEVEL कितना है। ताकि वह निर्धारित कर सके कि IQ LEVEL 120 तक पहुंचाने के लिए क्या कुछ करने की जरूरत है। आपको कुछ मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक से मिलना है। IQ LEVEL TEST करने का एक फुल प्रूफ फार्मूला तैयार करना है, और फिर अपना IQ LAB बनाकर ट्रायल शुरू कर देना है। यदि आप छोटे शहर में तो स्कूल लेवल पर, यदि आप किसी मेट्रो सिटी में है तो सोसाइटी लेवल पर ट्रायल कर सकते हैं। इस दौरान एक मिनिमम फीस लीजिए, ताकि आपके पास ज्यादा से ज्यादा संख्या में बच्चे आ जाएं। इसके कारण आपका फार्मूला बिल्कुल करेक्ट हो जाएगा, और फिर आप अपना ब्रांड लॉन्च कर सकते हैं।

भारत में युवा उद्यमिता विचार इस स्टार्टअप बिजनेस के लिए ग्रेजुएट अथवा पोस्ट ग्रेजुएट होना अनिवार्य है। आप साइंस के स्टूडेंट है तो आपकी सफलता की संभावना काफी ज्यादा होगा यदि आपने MBA अथवा इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त किये है, तो इस बिजनेस को नई ऊंचाइयों तक ले जा सकते हैं। याद रखिए कि इस स्टार्टअप में कम से कम तीन अलग-अलग सब्जेक्ट के को फाउंडर की जरूरत होगी भारत में महिलाओं के लिए व्यावसायिक विचार हाउसवाइफ महिलाओं के लिए यह गोल्डन अपॉर्चुनिटी है। यदि आपके ऊपर फैमिली को हेल्प करने का प्रेशर नहीं है तो यह स्टार्टअप न्यू बिजनेस आइडिया आपको सफलता के शिखर तक ले जा सकता है। बच्चों के मामले में हमेशा यह माना जाता है कि महिलाएं ज्यादा संवेदनशील और समझदार होती है। महिलाओं में कुछ ऐसा गॉड गिफ्टेड होता है जो बच्चों के मामले में उन्हें पुरुष से बेहतर बनाता है। यही गुण आपको आपके बिजनेस में सफलता दिला सकता है।