दिनदहाड़े खंजरों से हत्या के बाद संघ ने किया बंद का ऐलान: बेंगलुरू

बेंगलुरू में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ता 35-वर्षीय रुद्रेश आर की दिनदहाड़े रविवार दोपहर लगभग 12:45 बजे मोटरसाइकिल पर सवार दो अज्ञात लोगों ने व्यस्त कमर्शियल स्ट्रीट पर बने बाज़ार के निकट छोटी तलवारों, या बड़े खंजरों से गोद-गोदकर हत्या कर दी थी। बेहद नृशंस तरीके से की गई हत्या के विरोध में आहूत बंद के मद्देनज़र सोमवार को शहर के कुछ हिस्सों में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। रुद्रेश आर नामक यह कार्यकर्ता केंद्र में सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी के वैचारिक संरक्षक कहे जाने वाले संगठन आरएसएस की पास ही के इलाके में हुई बैठक से अपनी मोटरसाइकिल पर लौट रहा था। दोनों हमलावरों ने पहले रुद्रेश को मोटरसाइकिल से नीचे गिरा दिया, और फिर खंजरों से उस पर हमला कर उसे गोद डाला, और भाग निकले। रुद्रेश को तुरंत ऑटोरिक्शा के ज़रिये पास ही मौजूद बॉरिंग अस्पताल (Bowring Hospital) ले जाया गया, लेकिन वहां पहुंचाए जाने से पहले ही उसकी मौत हो गई थी।

पुलिस की पांच टीमें हमलावरों की तलाश में जुटी हई हैं, जो काले रंग की पल्सर मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए थे, और हेलमेट से अपने चेहरे छिपाए हुए थे। पुलिस का कहना है कि निजी दुश्मनी समेत सभी पहलुओं से हत्या के इस मामले की जांच की जा रही है। बेंगलुरू पुलिस के अतिरिक्त आयुक्त (पूर्वी) पी। हरीशेकरण ने कहा, “हम कुछ सुरागों पर काम कर रहे हैं, और उम्मीद है दोषियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।।।” रुद्रेश ठेकेदार के रूप में काम करता था। उसके परिवार में उसकी पत्नी के अलावा दो बच्चे भी हैं। रविवार दोपहर से ही आरएसएस ने बेंगलुरू के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन आयोजित किए हैं, और सोमवार को शहर के शिवाजीनगर क्षेत्र में बंद का आह्वान किया है। इसी इलाके में रुद्रेश आर आरएसएस की यूनिट का नेतृत्व करते थे। सावधानी के तौर पर उठाए गए कदम के तहत पुलिस ने इलाके में भीड़ इकट्ठा होने पर पाबंदी लगा दी है। प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या के विरोध में राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शनों का आह्वान किया है, और हमलावरों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की है।

mariah carey without makeup