डेबिटकॉर्ड साइबर अटैक से देश में खलबली 32लाख कार्ड की सुरक्षा खतरे में

चीन में अलग अलग जगहों पर कार्ड का इस्तेमाल इतनी बड़ी संख्या में हुआ है कि देश से लाखों रुपये के पैसे का हेरफेर होने की आशंका है। इस फर्जीवाड़े की वजह हिटाची पेमेंट सर्विसेस में मैलवेयर वायरस का आना है और ज्यादातर बैंकों के ATM हिटाची पेमेंट की सर्विसेस लेते हैं। डेबिट कॉर्ड पर साइबर अटैक के नए मामले ने पूरे देश में खलबली मचा दी है। SBI और चार सहयोगी बैंकों के डेबिट कॉर्ड ब्लॉक हुए हैं साथ ही SBI, HDFC, ICICI, AXIS और YES बैंक डेबिट कॉर्ड ब्लॉक हुए हैं। 6 लाख से ज्यादा डेबिट कॉर्ड ब्लॉक हो चुके हैं। अभी तो सिर्फ SBI और सहयोगी बैंकों ने ही फर्जीवाड़े की आशंका के चलते कॉर्ड ब्लॉक किए हैं। डेटा सिक्योरिटी टूटने की वजह से एसबीआई ने कॉर्ड ब्लॉक किए हैं। इकनॉमिक टाइम्स के मुताबिक फॉरेंसिक ऑडिट में खुलासा हुआ है कि करीब 32 लाख डेबिट कार्ड की सुरक्षा खतरे में है?

बचाव के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप किसी को भी अपने डेबिट-क्रेडिट कार्ड का पासवर्ड न बताएं और जिस बैंक का डेबिट कार्ड हैं उसी के ATM का इस्तेमाल करें। https वाली वेबसाइट पर ट्रांजेक्शन करें। ऑनलाइन और अन्य तरहों के भुगतान के लिए अपनी लिमिट छोटी रखें। जैसे क्रेडिट कार्ड की पेमेंट लिमिट बैंक कई बार बढ़ा देते हैं तो आप इस पर नजर रखे किं बहुत ज्यादा ना हो जाए। नियमित रूप से अपना बैंक स्टेटमेंट देखते रहें। भुगतान, पेमेंट, ट्रांजेक्शन, पासवर्ड चेंज या बैंक खाते के लिए वेबसाइट पर लॉगइन के लिए आने वाले SMS अलर्ट की सविधा लें। ये आपके काफी काम की है क्योंकि जैसे ही अगर कोई आपकी अकाउंट आईडी से लॉगइन करने की कोशिश करेगा या पासवर्ड रीसेट करने की कोशिश करेगा तुरंत आपके पास एलर्ट आ जाएगा। अगर कभी धांधली का शिकार हो जाएं तो बैंक और थाने में तुरंत शिकायत करें। हर महीने या 3 से 6 महीने पर अपने कार्ड का पिन बदलें। अपना पिन नंबर या नेटबैंकिंग पासवर्ड किसी को भी न बताएं। होटल, रेस्त्रां, पेट्रोल पंप या दुकान में कार्ड का इस्तेमाल करना हो तो उसे अपने सामने ही स्वाइप करें। इन बातों का ध्यान रखकर आप अपने कार्ड को क्लोनिंग या डेटा की चोरी से बच सकत हैं।

mariah carey without makeup