बिना सिफारिशें लागू किये फंड नहीं दे सकता BCCI: SC

दो हफ्ते में बताना होगा कि सिफारिशें लागू हुईं या नहीं… सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा है कि बीसीसीआई स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन्स को तब तक फंड नहीं दे सकता, जब तक वह लोढ़ा कमेटी की सिफारिशें लागू नहीं कर लेता। ये फंड किसी मैच को लेकर भी नहीं दिया जा सकता। सुप्रीम कोर्ट ने लोढ़ा पैनल से बीसीसीआई के खातों की जांच के लिए एक अलग ऑडिटर अप्वाइंट करने को भी कहा। इस पर अनुराग ने कहा, बिना ऑर्डर देखे कुछ भी कहना सही नहीं होगा। मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की अगुआई वाली जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एल. नागेश्वर राव की बेंच कर रही है।
सुप्रीम कोर्ट ने 3 दिसंबर तक बीसीसीआई प्रेसिडेंट अनुराग ठाकुर और सेक्रेटरी अजय शिर्के को हलफनामा देने को कहा है। इसमें उन्हें बताना होगा कि लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों को लागू करने में कितना वक्त लगेगा। साथ ही, कोर्ट ने लोढ़ा पैनल को अलग से एक ऑडिटर अप्वाइंट करने के लिए भी कहा है, ताकि बीसीसीआई के अकाउंट्स की जांच की जा सके। साथ ही, कोर्ट ने बीसीसीआई के फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन की लिमिट भी तय करने को कहा है। लोढ़ा पैनल ने सभी कॉन्ट्रैक्ट तय लिमिट से ज्यादा पाए थे। लोढ़ा पैनल की सिफारिशों को लेकर अगली सुनवाई 5 दिसंबर को होगी। अनुराग ठाकुर बोले ‘कोर्ट का ऑर्डर देखे बिना कुछ भी कहना सही नहीं होगा।’ ‘मुझे ज्युडिशियरी पर पूरा भरोसा है। स्टेट एसोसिएशंस को भी लोढ़ा कमेटी की सिफारिशें लागू करनी है। एक बार उन्हें कोर्ट के फैसले की कॉपी मिल जाए, इसके बाद उनसे चर्चा करेंगे।’

mariah carey without makeup