राहुल के ‘दलाली’ शब्द का इस्तेमाल किए जाने से बीजेपी भड़क

जवानों की शहादत के संदर्भ में ‘दलाली’ शब्द का इस्तेमाल किए जाने से बीजेपी भड़क गई है। पार्टी ने राहुल के बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि कांग्रेस को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। अमित शाह ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस कर राहुल और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, ‘कांग्रेस ने पहले मौत का सौदागर फिर जहर की खेती और अब खून की दलाली बोला। मुझे नहीं पता इसका क्या आशय है। मैं जानना चाहता हूं कि क्या दलाली शब्द सेना के लिए था जो देश को बचाने के प्रयासों में लगी है? सर्जिकल स्ट्राइक के बाद देश गर्व महसूस कर रहा है। राहुल गांधी और कांग्रेस क्यों गर्व महसूस नहीं कर रहे?’ किसान यात्रा की समापन रैली में गुरुवार शाम को राहुल ने कहा, ‘हमारे जवानों ने जम्मू-कश्मीर में अपना खून दिया है। उन्होंने हिन्दुस्तान के लिए सर्जिकल स्ट्राइक किए हैं। उनके खून के पीछे आप (मोदी) छिपे हैं। उनकी आप दलाली कर रहे हो। ये गलत है।’ इस बयान के बाद बीजेपी के साथ साथ आम आदमी पार्टी भी राहुल गांधी पर हमलावर हो गई है। अभी तक पीएम मोदी से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांग रहे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी राहुल पर जमकर बरसे।

यूपी में 27 साल बाद सत्ता वापसी की कोशिश में जुटी कांग्रेस के युवराज 21 दिन पहले देवरिया से शुरू हुई किसान यात्रा पूरी कर दिल्ली पहुंचे थे। लेकिन राजधानी पहुंचते ही उन्होंने यह बयान देकर गुड़ गोबर कर दिया है। यूपी में सभाओं के दौरान सर्जिकल स्ट्राइक के लिए सेना और केंद्र सरकार की तारीफ करने वाले राहुल गांधी का नया दांव कांग्रेस के लिए भारी पड़ सकता है। बीजेपी ने कांग्रेस को याद दिलाया कि पूर्व में उसके नेताओं के ऐसे बयानों के बाद उनका क्या हश्र हुआ है। 2007 में गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान सोनिया गांधी ने नरेंद्र मोदी को ‘मौत का सौदागर’ कहा था। उस वक्त मोदी गुजरात के सीएम थे। सोनिया गांधी ने नवसारी में चुनावी रैली में कहा था, ‘गुजरात की सरकार चलाने वाले झूठे, बेईमान, मौत के सौदागर हैं।’ मोदी ने सोनिया के इन आरोपों का चुनावी रैली में ही जवाब दिया था कि मौत के सौदागर वो हैं जो संसद पर हमला किए। कांग्रेस पार्टी उन लोगों को फांसी की सजा से बचा रही है। सोनिया के इस बयान का कांग्रेस को भारी नुकसान हुआ और राज्य में बीजेपी की फिर से सरकार बनी। इस चुनाव में 182 सीटों वाली गुजरात विधानसभा में बीजेपी को 117 सीटें मिलीं ज‍बकि कांग्रेस 59 सीटें ही हासिल कर सकी। 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान राहुल गांधी ने मोदी पर जहर की खेती करने का आरोप लगाया था। लेकिन इस बयान से मोदी के पक्ष में जबरदस्त लहर बनी और केंद्र में बीजेपी की पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनी। 2014 के आम चुनाव में बीजेपी को अकेले 278 सीटें हासिल हुईं जबकि पिछले 10 साल से देश पर राज कर रही कांग्रेस 45 सीटों तक सिमट गई। अब राहुल गांधी ने खून की दलाली का बयान देकर पार्टी के लिए बड़ी मुसीबत मोल ली है। क्योंकि कांग्रेस नेताओं की ओर से जब कभी मोदी के खिलाफ बेहद सख्त शब्दों के इस्तेमाल किए गए है, वह उल्टा ही पड़ा है। ऐसे बयानों को मोदी और बीजेपी अच्छी तरीके से भुनाते हैं।

यूपी में चुनावी यात्रा पर निकले राहुल गांधी ने सर्जिकल स्ट्राइक के बाद कहा था कि पीएम मोदी ने दो वर्षों में पहली बार कोई अच्छा काम किया है। कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जी बताया तो कांग्रेस ने निरुपम के बयान से किनारा कर लिया था। लेकिन राहुल के ताजा बयान से पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक के मसले पर कांग्रेस के रुख में ‘यू-टर्न’ से सियासी पंडित भी हैरान हैं।

mariah carey without makeup